Skip to main content

Posts

धर्म एव हतो हन्ति धर्मो रक्षति रक्षितः | तस्माद्धर्मो न हन्तव्यो मा नो धर्मो हतोऽवधीत् ॥

Buddha Temple @ Bodh Gaya (Bihar)

   Buddha Temple: The Mahabodhi temple is a UNESCO world heritage site and lots of securities are in place. It is a must-visit place and one of the best tourist destinations in Bihar. Tourists from across the globe visit here throughout the year. The place is very clean and calm located on the bank of the Falgu river.  This is one of the four important places related to Lord Buddha as he attained enlightenment here below the Bodhi Tree (Tree of awakening). The tree is just next to Mahabodhi temple and considered that if the leaf of the tree falls on any individual, his/her wish will get fulfilled.   Temple visiting Timing:   05 AM to 09.00  PM  - Everyday.  Best time to visit:  All time. During the summer it's very hot. Entry Fees:   There is no entry fee for general darshan but you have to pay Rs. 100 for Camera and Rs. 300 for the Video camera. The mobile phone is not allowed and you have to submit it at the counter.  Temple  Address: Bodh Gaya, Bihar,  India Special occasion: Du
Recent posts

जरासंध किस यज्ञ में अनेकों राजाओं का नरबली देने वाला था?

  प्रश्न : जरासंध किस यज्ञ में अनेकों राजाओं का नरबली देने वाला था?   उत्तर: महाभैरव यज्ञ    संदर्भ : श्रीमद्भागवत महापुराण /प्रथम खंड / प्रथम स्कन्द / अध्याय १५  / श्लोक ९                            050624-1 Video Link: https://youtube.com/shorts/782otY-5qcc श्रीमद्भागवत महापुराण  में वर्णित  अन्य प्रश्नोत्तरी के लिए   क्लिक करें  द्वारा  अनुज मिश्रा

द्वापर युग में अग्निदेव किस वन को जलाकर तृप्त हुए थे?

 प्रश्न : द्वापर युग में अग्निदेव किस वन को जलाकर तृप्त हुए थे?   उत्तर: महारथी पाण्डवपुत्र अर्जुन अग्नि देव को उनकी तृप्ति के लिए खांडव वन दान दिए थे जिसको जलाकर अग्नि देव तृप्त हुए थे ।    संदर्भ : श्रीमद्भागवत महापुराण /प्रथम खंड / प्रथम स्कन्द / अध्याय १५  / श्लोक ८                           040624-1 Video Link: https://youtube.com/shorts/PM_731ZooG8 श्रीमद्भागवत महापुराण  में वर्णित  अन्य प्रश्नोत्तरी के लिए क्लिक करें   द्वारा  अनुज मिश्रा

सप्तश्रोत क्या है?

 प्रश्न : सप्तश्रोत क्या है?   उत्तर: हिमालय के दक्षिण भाग में जहाँ सप्तर्षियों की प्रसन्नता के लिए गंगा जी ने अलग अलग सात धाराओं के रूप में अपने को सात भागों में विभक्त कर दिए हैं जिसे सप्तश्रोत कहते हैं।    संदर्भ : श्रीमद्भागवत महापुराण /प्रथम खंड / प्रथम स्कन्द / अध्याय १३  / श्लोक ५० , ५१         030624-1 Video Link: https://youtube.com/shorts/blhJ7BJKwB0 श्रीमद्भागवत महापुराण  में वर्णित  अन्य प्रश्नोत्तरी के लिए   क्लिक करें  द्वारा  अनुज मिश्रा

भगवान यमराज के अनुपस्थिति में यमलोक का कार्यभाल कौन सम्हालते हैं?

  प्रश्न : भगवान यमराज के अनुपस्थिति में यमलोक का कार्यभाल कौन सम्हालते हैं?   उत्तर: भगवान आर्यमा     संदर्भ : श्रीमद्भागवत महापुराण /प्रथम खंड / प्रथम स्कन्द / अध्याय १३  / श्लोक १५                         020624-1 Video Link: https://youtube.com/shorts/sfCoNBZf7qk श्रीमद्भागवत महापुराण  में वर्णित  अन्य प्रश्नोत्तरी के लिए   क्लिक करें  द्वारा  अनुज मिश्रा

जन्म के समय अभिमन्यु पुत्र महाराज परीक्षित का नाम क्या था?

  प्रश्न : जन्म के समय अभिमन्यु पुत्र महाराज परीक्षित का नाम क्या था?   उत्तर: विष्णुरात    संदर्भ : श्रीमद्भागवत महापुराण /प्रथम खंड / प्रथम स्कन्द / अध्याय १२  / श्लोक १७, ३०        010624-1 Video Link: https://youtube.com/shorts/6qx1sD9bmpQ श्रीमद्भागवत महापुराण  में वर्णित  अन्य प्रश्नोत्तरी के लिए क्लिक करें   द्वारा  अनुज मिश्रा

प्रजातीर्थ किस शुभ कालखंड को बताया गया है?

 प्रश्न : प्रजातीर्थ किस शुभ कालखंड को बताया गया है?  उत्तर: माँ के गर्भ से बाहर आने से लेकर नालच्छेदन संस्कार के पहले तक के कालखंड प्रजातीर्थ के नाम से जाना जाता है।   संदर्भ : श्रीमद्भागवत महापुराण /प्रथम खंड / प्रथम स्कन्द / अध्याय १२  / श्लोक १४                        310524-1 Video Link: https://youtube.com/shorts/B3twnYBFQ34 श्रीमद्भागवत महापुराण  में वर्णित  अन्य प्रश्नोत्तरी के लिए   क्लिक करें  द्वारा  अनुज मिश्रा

नागदेवता कितने प्रकार के हैं और किस लोक में निवास करते हैं?

 प्रश्न : नागदेवता कितने प्रकार के हैं और किस लोक में निवास करते हैं?  उत्तर: नागदेवता १२ प्रकार के हैं जो की निम्नलिखित हैं और वे भोगवती (पातालपुरी या पाताललोक) में निवास करते हैं।       कुलिक, वासुकि, शंखपाल, पद्म, महापद्म, तक्षक, कर्कोटक, शंखचूड़ , पातक, विषाक्त, शेषनाग  संदर्भ : श्रीमद्भागवत महापुराण /प्रथम खंड / प्रथम स्कन्द / अध्याय ११  / श्लोक ११                        300524-1 Video Link: https://youtube.com/shorts/maIz59afWe4 श्रीमद्भागवत महापुराण  में वर्णित  अन्य प्रश्नोत्तरी के लिए क्लिक करें   द्वारा  अनुज मिश्रा